ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
द इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया शाखा ने किया वर्कशाप का आयोजन
January 26, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

द इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया शाखा ने किया वर्कशाप का आयोजन

आगरा। द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया की शाखा द्वारा दिनाँक 25 जनवरी 2020 को सुबह 11:30 बजे से होटल रेडिसन ग्रीन, फतेहाबाद रोड,  आगरा पार एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन किया गया।

वर्कशॉप का उदघाटन शाखा वक्ता सीए नाव्या मल्होत्रा दिल्ली, सीए गौरव गुप्ता दिल्ली, शाखा अध्यक्ष सीए सुदीप कुमार जैन, उपाध्यक्ष सीए शरद पालीवाल, सचिव सीए आशीष जैन, कोषाध्यक्ष सीए गौरव बंसल, कार्यकारिणी सदस्य सीए राकेश अग्रवाल, सीए दीपिका मित्तल, सीए मृदुल पाठक एवं आलोक कुमार अग्रवाल द्वारा माँ सरस्वती जी की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया।

वर्कशॉप में प्रथम सत्र की अध्यक्षता शाखा पूर्व अध्यक्ष सीए मृदुला पाठक द्वारा की गई। इस सत्र में विषय critical issues, offences and penalties undar GST Act - 2017 पर वक्ता सीए नाव्या मल्होत्रा ने सदस्यों को बताया जीएसटी वार्षिक विवरण भरते समय बहुत सारे क्रिटिकल इश्यूज सामने आते हैं।

वक्ता ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2017 - 18 की वार्षिक विवरणी भरने की अंतिम तिथि 31 जनवरी 2020 है। आंकड़ों के अनुसार भारत वर्ष में लगभग 1 करोड़ 25 लाख फॉर्म 9 भरते हैं, लेकिन अभी तक सिर्फ 12 से 15 प्रतिशत ही भरे गए हैं।

वक्ता ने GST offences व पेनल्टी पर बोलते हुए बताया धारा 122 में से 21 offences बताते हैं। जिन पर पेनल्टी लग जाती है। इसकी विस्तृत जानकारी वक्ता ने दी।
वर्कशॉप के द्वितीय सत्र की अध्यक्षता शाखा पूर्व अध्यक्ष सीए आलोक कुमार अग्रवाल द्वारा की गई। इस सत्र में विषय search and survey under gst act - 2017 पर दिल्ली से आए जीएसटी विशेषज्ञ सीए गौरव गुप्ता ने जीएसटी सर्च व सीजर पर अपने विचार व्यक्त किए। वक्ता ने बताया कि सर्च या सीजर होने पर व्यापारी को घबराना नहीं चाहिए। जो भी सूचनाएं उससे विभाग मांगता है वो उसे देनी चाहिए। साथ ही अपने वित्तीय सलाहकार से भी राय लेनी चाहिए।

वक्ता ने बताया कि यदि विभाग को व्यापारी द्वारा किए गए जीएसटी रिटर्न से कोई भी त्रुटि मिलती है तो वह उस पर नोटिस जारी कर सकता है।

वक्ता ने बताया धारा 71 के अनुसार संयुक्त आयुक्त या उससे ऊपर का अधिकारी रजिस्टर्ड व्यापारी के पास जा सकता है। साथ में उसे अधिकारी को उस व्यापारी संस्थान में पाए जाने वाले बही खाता , कागजात आदि की जांच भी कर सकता है।

वर्कशॉप का संचालन सीए शुभम अग्रवाल एवं सीए प्रिया अग्रवाल द्वारा किया गया। कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापन शाखा सचिव सीए आशीष जैन द्वारा दिया गया।

वर्कशाप में मुख्य रूप से सीए आलोक फरसैया, सीए प्रशांत अग्रवाल, सीए प्रदीप गुप्ता, सीए वीरेन्द्र अग्रवाल, सीए अभिषेक अग्रवाल, सीए निगम गोयल, सीए आशीष अग्रवाल, सीए कनिष्का अग्रवाल, सीए अमिता गर्ग, सीए चंचल जैन, सीए राजीव गोयल, सीए अनिल पाहुजा, सीए प्रवीन गर्ग, सीए राजीव चतुर्वेदी, सीए कुशल गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

नितिन शुक्ला