ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
गुरूकुल परम्परा को पुनः जीवन्त करें गुरू : मोती सिंह
December 28, 2019 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

गुरूकुल परम्परा को पुनः जीवन्त करें गुरू : मोती सिंह

 बैसवारा इं. कालेज मेंं भूदाता त्रिभुवन बहादुर सिंह की मूर्ति का अनावरण,व धूमधाम से सम्पन्न
 


लालगंज रायबरेली।

 बैसवारा एजूकेन ट्रस्ट की संस्थाओं के भूप्रदाता राजा त्रिभुवन बहादुर सिंह की मूर्ति का अनावरण एवं इंटर कालेज का र्वााकोत्सव धूमधाम के साथ सम्पन्न हुआ। बतौर मुख्य अतिथि प्रदेश सरकार के ग्राम्यविकास मंत्री राजेन्द्र सिंह ने गुरू परम्परा को जीवन्त बनाए रखते हुए पुनः गुरूकुलों की स्थापना पर जोर दिया।उन्होने पौराणिक वृतान्त पर प्रकाश डालते हुए कहा कि गुरू शक्तिशाली होता है। इतिहास इस बात का गवाह है कि गुरू वषिष्ठ के आर्षीवाद का ही फल रहा कि भगवान राम ने धनु को तार-तार किया था।श्री सिंह ने कहा कि गुरूओं कें द्वारा दिये गये ज्ञान से छात्र हर लक्ष्य को हासिल कर सकता है। गुरू अपने कर्तव्यों का पालन कर शिष्यों को ऐसी षिक्षा दें कि देश को न केवल अच्छे नागरिक मिलें बल्कि युवा सही दिशा में जा सकें। इस मौके पर बच्चों द्वारा लगायी गयी विज्ञान प्रदर्षिनी में उच्च स्तरीय उपकरणों के प्रदर्शन की सराहना की और कहा कि उच्च गुणवत्तापरक शिक्षा मिलने का ही परिणाम है कि इतनी उत्क्रट विज्ञान प्रर्दानी देखने को मिली है।विाट अतिथि के रूप में बोलते हुए विधान परिद सदस्य दिनेश प्रताप सिंह ने विज्ञान प्रदर्षनी की तारीफ करते हुए कहा कि बैसवारा का ौक्षणिक माहौल प्रदेश में अद्वितीय है। उन्होने एक शिक्षण कक्ष देने की भी घोणा की। समारोह की अध्यक्षता करते हुए सरेनी विधायक धीरेन्द्र बहादुर सिंह ने कहा कि बैसवारे की संस्कृति प्रदेश में अद्वितीय है।उन्होने कहा कि अभिभावक व शिक्षक मिल कर ौक्षिक वातावरण तैयार करें ताकि युवा पीढ़ी अपने लक्ष्य को आसानी से हासिल कर सके।इसके पूर्व मुख्य अतिथि कबीना मंत्री राजेन्द्र सिंह, राजद के प्रदेश अध्यक्ष अशोक सिंह एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह तथा सरेनी विधायक धीरेन्द्र बहादुर सिंह ने भूदाता तालुकेदार त्रिभुवन बहादुर सिंह की मूर्ति का अनावरण किया। इसके बाद विज्ञान प्रदर्शनी में पहुंचे अतिथियों ने बच्चों के प्रयासों की सराहना की।समारोह में बच्चों ने मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रमों को प्रस्तुत किया। जिसमें लोकगीत, लोक नृत्य, राजस्थानी नृत्य तथा एकांकी एवं प्रहसन की प्रस्तुति ने लोगों का मन मोह लिया। इस मौके पर कालेज के उत्क्रट कार्यों के लिए चार ि़क्षकों पूर्व प्रधानाचार्य जेपी सिंह, विज्ञान िक्षक सुनील त्रिपाठी एवं उदय विक्रम सिंह, सुधीर पांडेय को सम्मानित किया गया। अतिथियों का भी मार्ल्यापण कर उन्हे अंगवस्त्र प्रतीक चिन्ह व तलवारें भेंट की गयीं। विद्यालय की प्रगति आख्या प्रबंधक लाल देवेन्द्र बहादुर सिंह ने प्रस्तुत की। कार्यक्रम का संचालन स्वंयवर सिंह व वीरेन्द्र ाक्ला ने संयुक्त रूप से किया तथा अभार विद्यालय के प्रधानाचार्य डा. नरेन्द्र बहादुर सिंह ने किया। इस अवसर पर विद्यालय के उपप्रबंधक ब्रम्हप्रका सिंह, आदित्य प्रताप सिंह, डा निरंजन राय, अरूण कुमार सिंह मुन्ना, नरेन्द्र बहादुर सिंह, अवनेन्द्र प्रताप सिंह, प्रो. अविना सिंह, राजेश फौजी,अवनीश प्रताप सिंह, संतो सिंह, सुरेश नारायण सिंह बच्चा बाबू, राघवेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ बब्बू सिंह, बीडी सिंह, मदन मोहन सिंह, भवानी श्रीवास्तव  आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।  

मनीष श्रीवास्तव रायबरेली सवांददाता