ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
होली जैसे त्योहार पर हुड़दंग किया तो, हवालात में मनेगा त्योहार, 20 मार्च तक शहर में धारा 144 रहेगी लागू
March 8, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 होली के दिन बंदी पर भी बिकी शराब, तो खैर नहीं होगी, दूसरों की सुविधा का ध्यान रखते हुए रंगोत्सव का लुत्फ उठाएं

लखनऊ । लाउण्ड स्पीकर पर अश्लील गाने और नशे में वाहन चलाने वालों की होली हवालात में गुजर सकती है। माहौल बिगाड़ने की मंशा पाले हुड़दंगियों के लिए ये चेतावनी लखनऊ पुलिस ने जारी की है। ज्वाइन्ट पुलिस कमिश्नर लॉ एण्ड आर्डर नवीन अरोरा ने बताया कि शहर में 2595 जगह होलिका दहन के लिए चिंह्नित है। इसके साथ ही चौक, सआदतगंज, अलीगंज, जानकीपुरम और गोसाईंगंज इलाके में बड़े जुलूस निकाले जाते हैं। कुछ होलिका दहन स्थन संवेदनशील हैं जहां अतिरिक्त फोर्स तैनात की गई है। जेसीपी ने बताया कि 6 मार्च से 20 मार्च तक धारा 144 प्रभावी रहेगी। सोशल मीडिया की भी लागातार मॉनीटरिंग की जाएगी। शहर के इंट्री प्वाइंट पर बैरियर, बैरिकेडिंग करने के साथ ही 14 क्यूआरटी और 14 फ्लाइंट स्कवाड को तैनात किया गया है। इसके साथ ही थानेवार एक क्यूआरटी रिजर्व रखी गई है। बंदी के बाद भी बिकी शराब, तो खैर नहीं होगी उन्होंने कहा कि होली के दिन बंदी पर भी कई जगह शराब बेची जाती है। ऐसी शिकायत मिलने पर तत्काल शराब दुकान संचालक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि थाना प्रभारियों को भी शराब बंदी पूरी तरह लागू कराने के निर्देश दिए गए हैं। जेसीपी के मुताबिक अभी तक करीब 584 लीटर कच्ची शराब जब्त की जा चुकी है। इसके साथ ही 210 अराजक लोगों को पाबंद किया गया है।
सुरक्षित होली के लिए डीसीपी से लेकर इंस्पेक्टर तक सड़क पर उतरेंगे। इसके साथ ही सुरक्षा के लिए 108 पुलिस पिकेट, 240 क्लस्टर मोबाइल, 40 क्यूआरटी मोबाइल, 14 गार्द और 160 मोबाइल पार्टी की ड्यूटी लगाई गई है। जेसीपी ने बताया कि 40 पुलिस अधिकारी, 571 इंस्पेक्टर -सब इंस्पेक्टर, 1700 सिपाही, छह कम्पनी पीएसी व आरएएफ मौजूद रहेगी। 

स्वच्छता का रखें ध्यान, होली में कीचड़ और पेंट का प्रयोग बिल्कुल नही

दूसरों की सुविधा का ध्यान रखते हुए रंगोत्सव का लुत्फ उठाना चाहिए। जेसीपी ने कहा कि मिट्टी, कीचड़ और पेंट का प्रयोग नहीं करना चाहिए। साथ ही छोटे बच्चों और महिलाओं के साथ रंग खेलते वक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा त्योहार साझा रूप से मनाए जाते हैं। मगर, कुछ लोग रंग में भंग डालने के लिए धार्मिक स्थलों को भी बदरंग करने से बाज नहीं आते। ऐसे शरारती तत्वों से निपटने के लिए पुलिस शहरवारियों से सहयोग की अपेक्षा रखती है। 

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी