ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
जानवरों के आतंक से किसान परेशान आवारा जानवरों को गंगा कटरी में छोड़कर प्रशासन ने पाई निजात
January 20, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

जानवरों के आतंक से किसान परेशान आवारा जानवरों को गंगा कटरी में छोड़कर प्रशासन ने पाई निजात

 

लालगंज रायबरेली कोतवाली क्षेत्र के खजूर गांव में आवारा जानवरों से परेशान होकर किसानों ने सैकड़ों मवेशियों को होलिका दहन स्थल पर बंद कर दिया सूचना पाकर पहुंची लालगंज पुलिस और तहसील प्रशासन के अधिकारियों ने जानवरों को वहां से निकलवाकर गंगा कटरी में छुड़वा दिया किसानों से मिली जानकारी के अनुसार क्षेत्र में फैले हजारों आवारा जानवरों ने गेहूं सरसों व दलहन की फसल को काफी नुकसान पहुंचाया है इस नुकसान के चलते सैकड़ों किसान भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं जानवरों के आतंक से छुटकारा पाने के लिए किसान एकजुट होकर जानवरों को हांककर होलिका दहन के स्थान पर ले जाकर बंद कर दिया वहां कोई व्यवस्था ना होने के चलते लोगों ने प्रशासन को सूचना दी मौके पर पहुंचे कानून को रविंद्र श्रीवास्तव लेखपाल रणधीर व पुलिस टीम के द्वारा जानवरों को होलिका दहन के स्थान से बाहर निकलवाया गया भारी मशक्कत के बाद गंगा कटरी में जानवरों को छोड़ कर आई मुसीबत से सरकारी मशीनरी ने छुटकारा पाया वही लोगों में काफी रोष है ग्रामीणों का कहना है कि खजूर गांव में बन रहे गौशाला भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई गौशाला निर्माण में पैसों का बंदरबांट किया गया लोगों ने गौशाला निर्माण की शीघ्र मांग की है अभी कुछ ही दिनों पहले कटरी में जानवरों से रखवाली कर रहे किसान की ठंड के कारण मौत हो गई थी चारागाह हुआ गौशाला ना होने की वजह से कटरी क्षेत्र के किसान भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं बड़ी मुश्किल से जानवरों को एकत्रित कर किसी तरह से होलिका दहन के स्थान पर बंद किया गया था कि प्रशासन कोई व्यवस्था करेगा तो व्यवस्था करने के स्थान पर जानवरों को शासन द्वारा पुनः कटरी क्षेत्र में जानवरों को छोड़ दिया गया जहां सैकड़ों किसानों की हजारों बीघा फसल तैयार होती है कटरी क्षेत्र में रहने वाले लोगों की जीविका कटरी क्षेत्र में खेती ही एकमात्र सहारा है।

कुछ किसानों का कहना है की आवारा जानवरों से निजात नहीं दिलाई गई तो वह आत्मदाह के लिए मजबूर होंगे क्योंकि वैसे भी हमें भुखमरी से जूझना पड़ रहा है

लालगंज सवांददाता सुरेश बहादुर सिंह की रिपोर्ट