ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
लखनऊ में डॉक्टर की मां समेत दो को कोरोना, ऐसे में अस्पताल में मरीजों की भर्ती बंद, स्टाफ को क्वारंटाइन में भेजा गया
April 30, 2020 • Team janadhikar • उत्तरप्रदेश

-मॉडल हाउस निवासी डॉक्टर दंपति निशात अस्पताल में कार्यरत हैं, उनकी 90 वर्षीय मां को चार दिन से बुखार-जुकाम था..

-इसके अलावा फूलबाग निवासी 28 वर्षीय महिला में कोरोना की पुष्टि हुई है, दोनों मरीजों की जांच निजी पैथोलॉजी में हुई है..

लखनऊ, 30 अप्रैल 2020, शहर में कोराेना का संक्रमण नहीं थम रहा है। हर रोज नए मरीजों पर वायरस हमला कर रहा है। गुरुवार को डॉक्टर दंपति की बुजुर्ग मां समेत दो में कोरोना की पुष्टि हुई है। ऐसे में निशात अस्पताल में भर्ती बंद कर दी गई है। वहीं स्टाफ को क्वारंटाइन में भेज दिया गया है।
मॉडल हाउस निवासी डॉक्टर दंपति लालबाग स्थित निशात अस्पताल में कार्यरत हैं। उनकी 90 वर्षीय मां को चार दिन से बुखार-जुकाम था। बुधवार को उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी। डॉक्टर पुत्र के मुताबिक सुबह छह बजे निशात अस्पताल के आइसीयू में ले गए। यहां से आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। कोविड-19 के संदिग्ध लक्षण होने पर निजी पैथोलॉजी जांच के लिए सैंपल भेजा गया। रात साढ़े ग्यारह बजे रिपोर्ट आई। सीएमओ कार्यालय ने सूचना दे दी गई। वहीं साढ़े ग्यारह बजे बुजुर्ग मरीज को पीजीआइ शिफ्ट किया गया। इसके अलावा फूलबाग निवासी 28 वर्षीय महिला में कोरोना की पुष्टि हुई है। इस मरीज को लोकबंधु शिफ्ट किया गया। दोनों मरीजों की जांच निजी पैथोलॉजी में हुई है।
बुजुर्ग मरीज का बेटा फिजीशियन है। वहीं बहू स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं। इसके अलावा घर में 11 सदस्य हैं। रात साढ़े ग्यारह बजे रिपोर्ट आई। इस दौरान सभी सदस्यों की नींद उड़ गई। आनन-फानन खुद को एक-एक कमरे में क्वारंटाइन कर लिया। कारण बुजुर्ग मां के संपर्क में आए लोगों में संक्रमण एक-दूसरे से न फैले। वहीं सीएमओ की टीम अगले दिन 10 बजे के बाद घर पहुंची। वहीं साढ़े ग्यारह बजे के करीब मरीज को पीजीआइ शिफ्ट कराया गया। बुजुर्ग मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर है।

अस्पताल का 13 स्टाफ क्वारंटाइन में..

निशात अस्पताल के निदेशक डॉ. तौसीफ के मुताबिक अस्पताल को सैनिटाइज कराया गया। 35 बेड के अस्पताल में सिर्फ एक मरीज भर्ती था, जिसे डिस्चार्ज कर दिया गया। वो पूरी तरह ठीक था, संक्रमित मरीज के संपर्क में भी नहीं आया था। 
वहीं रात का एक बजे के करीब मौजूद स्टाफ को क्वारंटाइन में कर दिया गया। अस्पताल में मरीजों की भर्ती बंद कर दी गई है। वहीं डिस्चार्ज किए गए मरीज को रात का स्टाफ ही देख रहा था, लिहाजा उसे क्वारंटाइन क्यूं नहीं किया गया। ये भी सवालों के घेरे में है।

संक्रमित महिला के यहां आठ सैंपल..

वहीं फूलबाग निवासी संक्रमित महिला के यहां आठ लोगों के सैंपल जुटाए गए। सभी का स्वैब सैंपल जांच के लिए केजीएमयू भेजा गया है। ऐसे में मॉडल हाउस व फूलबाग में हड़कंप रहा।
राजधानी में मरीजों की संख्या 221 हो गई है। इसमें लखनऊ के 140 मरीज हैं। शेष मरीज विभिन्न जनपदों के हैं। 

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी