ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
लॉकडाउन के बीच शिक्षक नदीम ने की एक नई पहल, यूपी के डुमरियागंज में घर बैठे ऑनलाइन बच्चों को पढ़ा रहें
April 2, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

लॉकडाउन के बीच शिक्षक नदीम ने की एक नई पहल, यूपी के डुमरियागंज में घर बैठे ऑनलाइन बच्चों को पढ़ा रहें 

 परिषदीय शिक्षा के क्षेत्र में अनोखी पहल मॉडल अपर प्राइमरी स्कूल-भारत भारी के इंचार्ज मो. नदीम द्वारा घर बैठे शिक्षा देने का नवाचार किया गया..

लखनऊ, 02 अप्रैल 2020, सिद्धार्थ नगर जिले के डुमरियागंज में विकास क्षेत्र के मॉडल अपर प्राइमरी स्कूल-भारत भारी के इंचार्ज प्रधानाध्यापक मोहम्मद नदीम द्वारा लॉक डाउन के कारण घर बैठे ऑनलाइन शिक्षा देने का नवाचार किया गया है। हालांकि लॉकडाउन होने के कारण उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कई बड़े निजी स्कूलों ने सोशल मीडिया पर ऑनलाइन घर पर स्मार्ट क्लास लगाकर पढ़ा रहें हैं जिसमें लखनऊ शहर का एक सरकारी स्कूल भी शामिल है। राजधानी लखनऊ यूपी के सभी जिलों में विकासशील है, यहां पर घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई होना स्वाभाविक है। लेकिन सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज में सरकारी प्राइमरी भारत भारी स्कूल ने सोशल मीडिया की ऑनलाइन पढ़ाई की शुरुआत करके यूपी के तमाम जिलों के लिए एक मिसाल कायम की है। 

अपने स्कूल को पढ़ाई में नंबर वन बनाने में वर्तमान में काफी हद तक सफलता मिली..

स्कूल के इंचार्ज व प्रधानाचार्य मोहम्मद नदीम ने बच्चों की शिक्षा पर जोर देते हुए अपने स्कूल को पढ़ाई में नंबर वन बनाने का लक्ष्य लिया था जो वर्तमान में उनको काफी हद तक सफलता मिली है डुमरियागंज में मॉडल अपर प्राइमरी स्कूल-भारत भारी में स्कूल की पढ़ाई देखकर हर अभिभावक एडमिशन कराना चाहते हैं। 

ऑनलाइन पढ़ाई घर बैठे बच्चों को ऐसे पढ़ाते है..

लॉकडाउन के बीच स्कूल के इंचार्ज प्रधानाध्यापक मोहम्मद नदीम ने बताया कि ऑनलाइन घर बैठे अपने स्कूल के बच्चो को कैसे पढ़ाते हैं उन्होंने बताया कि हमने व्हाट्सएप पर "स्टूडेंट ग्रुप भारत भारी" के नाम से बच्चों का एक ग्रुप बनाया है इसी ग्रुप ले माध्यम से बच्चों को होमवर्क दिया जा रहा है।बच्चे होमवर्क करने के पश्चात ग्रुप में शेयर कर देते हैं। इस प्रकार अध्यापक एवं बच्चे एक-दूसरे से संपर्क में हैं। और बच्चों की इस ऑनलाइन पढ़ाई से क्षेत्र के अभिभावक काफी खुश नजर आ रहे हैं। आगे मोहम्मद नदीम ने कहा कि लॉक डाउन के कारण बच्चों की शिक्षा प्रभावित हो रही थी जिसके कारण शिक्षा के क्षेत्र में यह एक नवाचार किया गया है जिससे छात्र घर पर बैठकर शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।इसके अतिरिक्त पहले से संचालित "दीक्षा ऐप्प"एवं "ई-पाठशाला" के माध्यम से भी बच्चे ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

 कहा: बच्चे देश का भविष्य हैं, हमें उनके शिक्षा और स्वास्थ्य को बेहतर बनाना होगा..

 उन्होंने आगे बताया कि जो बच्चे व्हाट्सएप नहीं चलाते हैं उनके अभिभावकों से फोन पर बात करके बच्चों को घर पर पढ़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा है एवं "कोरोना वायरस" के प्रति बच्चों को घर में ही रहने, बार-बार हाथ धोने एवं साफ सफाई के लिए भी जागरूक कर रहे हैं।
उन्होंने यह भी कहा कि बच्चे देश का भविष्य हैं हमें उनके शिक्षा एवं स्वास्थ्य को बेहतर बनाना होगा।इसलिये लॉक डाउन के समय घर पर सुरक्षित रहें एवं शिक्षा से भी जुड़े रहें। स्थानीय स्तर पर खंड शिक्षा अधिकारी डुमरियागंज श्याम प्रताप सिंह ने  कहा कि यह एक अच्छी पहल है बच्चों की पढ़ाई का नुकसान न हो इसलिए यह ऑनलाइन व्यवस्था शिक्षक द्वारा की गई है। अन्य सभी शिक्षकों को भी इस तरह की पहल करनी चाहिए इस कार्य में अभिभावकों का भी सहयोग अपेक्षित है।

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी