ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
लॉकडाउन में घर जाने के लिए 500 किलोमीटर की दूरी तय करने को मजबूर स्टूडेंट्स
April 22, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

-बिस्कुट और पानी जैसी चीजें लेकर पैदल इतना लंबा सफर तय करके अपने घर की ओर निकल पड़े..

-एक छात्र ने बताया दिहाड़ी मजदूरी करने वाले परिवार से ताल्लुक रखता हूं, मेरे घरवालों ने बड़ी मुश्किलों से मुझे पढ़ने के लिए भेजा था..

लखनऊ, 22 अप्रैल 2020, कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते लोग विभिन्न स्थानों से घर आने के लिए पैदल चलने को मजबूर हैं, सरकार की ओर से मनाही के बावजूद अब भी लोग पैदल-पैदल सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय कर रहे हैं, ये कहा हुआ कितना आसान लगता है की 500 किलोमीटर कोई फदल चला, पर इतना दूर पैदल चलना उतना ही मुश्किल होता है ऐसा ही कुछ कारनामा किया है उत्तर प्रदेश के विद्यार्थियों ने, सरकार की ओर से मनाही के बावजूद अब भी लोग पैदल सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय कर रहे हैं।

-बिस्कुट और पानी जैसी चीजें लेकर पैदल इतना लंबा सफर तय करके अपने घर की ओर निकल पड़े..

ताजा मामला उत्तर प्रदेश के बरेली का है, यहां के रोहिलखंड यूनिवर्सिटी के कुछ छात्र एक बस्ते में कुछ कपड़े, बिस्कुट और पानी जैसी चीजें लेकर 500 किलोमीटर दूर अपने घर वाराणसी की ओर निकल पड़े. सुबह 11 बजे वे लखनऊ पहुंचे, इस समय सूरज सिर पर चढ़ा हुआ था और धूप तेज थी, वे पिछले 24 घंटों का सफर तय करके बरेली से लखनऊ पहुंचे हैं, उन्होंने ये सफर पैदल और रास्ते में आने-जाने वाले वाहनों से लिफ्ट लेकर तय किया, बरेली से लखनऊ की दूरी करीब 250 किलोमीटर है, उन्हें 320 किमी की दूरी तय करके अपने घर वाराणसी जाना है।

-एक छात्र ने बताया दिहाड़ी मजदूरी करने वाले परिवार से ताल्लुक रखता हूं, मेरे घरवालों ने बड़ी मुश्किलों से मुझे पढ़ने के लिए भेजा था..

छात्रों में शामिल गोलू मिश्रा ने कहा हमारे परिवार ने 14 अप्रैल तक गुजर बसर करने के लिए पैसे भेजे थे, हम बरेली में पीजी में रहते हैं और यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करते है हमारे सारे पैसे खर्च हो गए थे, आगे बताया हमारे लिए कोई और विकल्प नहीं बचा है, मिश्रा ने कहा मैं एक दिहाड़ी मजदूरी करने वाले परिवार से ताल्लुक रखता हूं, मेरे घरवालों ने बड़ी मुश्किलों से मुझे पढ़ने के लिए भेजा है, वे मुझे और पैसे भेजेंगे अगर वे खुद कमा रहे होते, लेकिन लॉकडाउन की वजह से काम बंद है और हमारे सारे पैसे खर्च हो गए थे, बता दें कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने देशभर में लॉकडाउन लगाया हुआ है और लोगों से घर में रहने और यात्रा नहीं करने की अपील की है, लॉकडाउन का सबसे ज्यादा असर दिहाड़ी मजदूरों पर पड़ा है।

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी