ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
मदरसा दारूल उलूम फलाहे दारैन, खानियां, नई सड़क में मनाया गया जश्ने। यौम-ए-जम्हूरिया (गणतंत्र दिवस)
January 26, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

मदरसा दारूल उलूम फलाहे दारैन, खानियां, नई सड़क में मनाया गया जश्ने। यौम-ए-जम्हूरिया (गणतंत्र दिवस)

जोधपुर 26 जनवरी  2020

मदरसा दारूल उलूम फलाहे दारैन, खानियां, नई सड़क, जोधपुर में  बड़ी धूम धाम से जश्ने यौम-ए-जम्हूरिया( गणतंत्र दिवस) मनाया गया। यौम-ए-जम्हूरिया के मौके पर मदरसा व स्कूल के  बच्चों ने दिलचस्प कार्यक्रम  पेश किया।
  प्रोग्राम की सरपरस्ती हाजी अब्दुल सलीम साहब (रेजिडेन्ट इंजिनीयर, हाउसिंग बोर्ड, जोधपुर) व मुख्य अतिथि रघुवीर माथुर साहब (कनिष्ठ लिपिक, जे. डी. ए., जोधपुर) व मेहमाने इम्तियाजी इकबाल अली रंगरेज साहब (सहायक लेखाधिकारी, जे. डी. ए., जोधपुर) द्वारा की गई।
सरपरस्त इंजीनियर साहब ने प्यारे वतन की आजादी की अहमियत पर रोशनी डाली। मुख्य अतिथि रघुवीर माथुर ने हिंदू मुस्लिम एत्तिहाद पर फरमाया कि हमारे मुल्क की तरक्की व। कामयाबी इसी ही में पाई जाती हैं। वह मेहमान-ए इम्तियाजी ने फरमाया कि मुल्क की तरक्की उस वक्त तक नहीं हो सकती जब तक हम मुतहीद होकर तालीम, कारोबार, तिजारत नहीं करेंगे। आखिर में दारुल उलूम फलाहे दारैन के सचिव मौलाना मोहम्मद रमजान कासमी ने सभी मेहमानों का शुक्रिया अदा किया,  और कहा कि हमारे इस वतन प्यारे को आजाद कराने में और सेकुलर जम्हूरी मुल्क  बनाने में बड़ा किरदार अदा किया है- महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू,  सरदार पटेल और मौलाना अबुल कलाम आजाद, मौलाना हिफजुर रहमान  shaikh-ul-hind ,शेख उल इस्लाम का अहम रेशमी रुमाल की तहरीक को भुलाया नहीं जा सकता ।
आखिर में तलबा को इनाम देकर मजलिस का इख्तेताम हुआ ।

मौलाना मोहम्मद रमजान कासमी
सेक्रेट्री- दारुल उलूम फलाहे दारैन नई सड़क जोधपुर (राजस्थान)

उमर खान जोधपुर सवांददाता