ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
मुंबई से अयोध्या लौट रहे कोरोना पॉजिटिव मरीज की ट्रेन में मौत, अंतिम संस्कार के बाद मृतक की आई पॉजिटिव रिपोर्ट से मचा हड़कंप
May 14, 2020 • Team janadhikar • उत्तरप्रदेश

-लापरवाही की हद, कोरोना रिपोर्ट आए बगैर ही शव को उसके गृहजनपद अयोध्या भेजवा दिया, जहां उसका अंतिम संस्कार भी कोरोना प्रोटोकॉल के मुताबिक नहीं हुआ..

-प्रशासन की बड़ी लापरवाही, पोस्टमार्टम करने वाले सिविल के दो डॉक्टर समेत चार क्वारंटाइन, रेलवे के मुताबिकक 54 प्रवासी श्रमिक थे उसी बोगी में सवार.

लखनऊ, 14 मई 2020, मुंबई से कोरोना पॉजीटिव कामगार 54 यात्रियों के साथ सफर करता रहा। उसकी मौत होने के बाद भी करीब 11 घंटे तक बीच में कहीं ट्रेन रोककर मृतक को उतारा नहीं गया। जब ट्रेन लखनऊ पहुंची तो यहां जीआरपी के दो सिपाहियों ने उसके शव को उतारा। उसके बाद डीएम व सीएमओ के निर्देश पर मजदूर का केजीएमयू अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया गया। लापरवाही की हद देखिये कि उसकी कोरोना रिपोर्ट आए बगैर ही शव को उसके गृहजनपद अयोध्या भेजवा दिया, जहां उसका अंतिम संस्कार भी कोरोना प्रोटोकॉल के मुताबिक नहीं हुआ। बाद में श्रमिक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव निकली तो रेलवे से लेकर स्वास्थ्य विभाग तक में हड़कंप मच गया।
अयोध्या जिले के थाना गोसाईंगंज का रहने वाला 42 वर्षीय कामगार मुंबई में रहकर अपने साले के साथ गेट वे ऑफ इंडिया पर फोटोग्राफी कर परिवार पालता था। लॉकडाउन में काम बंद हो गया। वो परिवार सहित मुंबई से बस्ती जाने वाली ट्रेन पर सोमवार दोपहर डेढ़ बजे सवार हो गया। इटारसी के आसपास उसकी मौत हो गई थी। परिवारको झांसी के पास पता चला, लेकिन शव को रास्ते में कहीं नहीं उतारा गया था। ट्रेन जब मंगलवार को अपरान्ह दो बजकर 35 मिनट पर लखनऊ आई तो जीआरपी ने उसके शव को उतारकर पोस्टमार्टम को भेजवाया। रेलवे उन श्रमिकों का ब्यौरा जुटा रहा है। जो उसी बोगी में सफर कर रहे थे। बताया जा रहा है कि मृत श्रमिक के साले की मुंबई में मौत हो गई थी, जिसके बाद वो अपनी यात्रा रद्द करना चाह रहा था, लेकिन वहां उसे बस में बैठाकर रेलवे स्टेशन छोड़ दिया गया। अंतिम संस्कार के बाद मृतक की रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आयी है। मृतक व्यक्ति जनपद के गोसाईगंज थाना क्षेत्र के मानापारा का रहने वाला था। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. घनश्याम सिंह ने इसकी पुष्टि की है। सीएमओ डॉ. सिंह का कहना है कि अंतिम संस्कार में शामिल 10 लोगों को शहर के एक होटल में रख कर  क्वॉरेंटाइन किया गया है। सभी का सेम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजा गया है। मालूम हो कि मृतक के घर वालों ने रिपोर्ट आने से पहले अंतिम संस्कार कर दिया था। मृतक के साथ पत्नी भी मुंबई से अयोध्या आई थी। सीएमओ डॉ. सिंह का दावा है कि पैक लाश का अंतिम संस्कार किया गया था ।

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी