ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
नए साल के पहले ही दिन बैंक पर शख्स ने जड़ दिया ताला, जानिए क्यों ?
January 3, 2020 • Tariq • राष्ट्रीय

 

नए साल के पहले ही दिन बैंक पर शख्स ने जड़ दिया ताला, जानिए क्यों ?

रायबरेली. उत्तर प्रदेश के रायबरेली (Raebareli) में बैंक ऑफ बड़ौदा के क्षेत्रीय कार्यालय में उस समय हड़कंप मच गया, जब एक शख्स ने जबरन बैंक के गेट पर ताला लगा दिया. कई घंटे तक बैंककर्मी बाहर खड़े रहे. दरअसल ये शख्स भवन मालिक बताया जा रहा है. बाद में बैंक मैनेजर ने बैंक के गेट पर ताला लगाने की शिकायत जिले के पुलिस अधीक्षक से की तो मौके पर कई थानों की पुलिस पहुंच गई. बैंक मैनेजर ने भवन मालिक पर धमकाने और मारपीट करने का भी आरोप लगाया है.

पुलिस पहुंचने पर बैंक के अंदर जा सके कर्मचारी 
नए साल के पहले ही दिन रायबरेली शहर के मलिकमऊ में स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा के क्षेत्रीय कार्यालय के कर्मचारी जब अपने ऑफिस पहुंचे तो गेट पर ताला लगा मिला।
बैंक के जिम्मेदार लोगों ने जब मामले की जानकारी की तो पता चला कि आज सुबह भवन के मालिक ने गेट पर ताला लगा दिया और उसके बाद वहां से गायब हो गया. इसकी सूचना बैंक के मैनेजर ने पुलिस अधीक्षक को दी तो तत्काल कई थानों की पुलिस वहां पहुंची ताला खुलवाने का प्रयास किया लेकिन ताला नहीं खुल सका.

पुलिस ने इसके बाद दूसरे गेट से बैंक कर्मचारियों से जाने को कहा तो बैंककर्मी भड़क गए. इस दौरान पुलिस और बैंक मैनेजर के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई. बैंक कार्यालय के जिम्मेदार अधिकारी की मानें तो बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय के साथ-साथ परिसर में एक शाखा भी है, जिसे खाली कराकर दूसरी जगह ले जाया जा रहा है. क्षेत्रीय कार्यालय जो है, उसे भी यहां से हटाकर दूसरी जगह ले जाना है, जिसकी सूचना भवन मालिक को एक नोटिस के जरिए भेजी गई. लेकिन उन्होंने लेने से इंकार कर दिया और इसके साथ ही एक कर्मचारी से मारपीट भी की. जिसकी शिकायत पुलिस को पहले दी जा चुकी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. आज फिर भवन मालिक ने जबरन गेट पर ताला लगा दिया और मौके से गायब हो गए ।
भवन मालिक का ये है कहना 

मामले में भवन मालिक एचएन सिंह का कहना है कि 2017 के बाद से ही वह बैंक से एग्रीमेंट रिन्यू करने को कह रहे थे लेकिन तीन साल से लगातार बिना नए एग्रीमेंट के ये ऑफिस चला रहे थे. उन्होंने कहा कि मेरा जो तीन साल का बकाया बनता है, उसके बिना हम बैंक को जाने नहीं देंगे. वहीं मामले में सीओ गोपीनाथ सैनी का कहना है कि इस संबंध में उनके पास कोई तहरीर नहीं आई है. तहरीर मिलने के बाद ही वह कार्रवाई कर सकते हैं।

त्रिलोकी नाथ
 अमावां रायबरेली