ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
निशा जिंदल के नाम से फेसबुक चलाने वाला रवि गिरफ्तार, करता था सांप्रदायिक टिप्पणी
April 21, 2020 • Tariq • राष्ट्रीय

-पुलिस ने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया जो फेसबुक पर लड़की के नाम से फर्जी प्रोफाइल हैंडल कर रहा था फर्जी प्रोफाइल को उसने निशा जिंदल नाम दिया..

-पुलिस एफबी यूजर 'निशा जिंदल' को गिरफ़्तार करने पहुंची तो पता चला कि 11 साल से इंजिनियरिंग पास नहीं कर पा रहे 'रवि' ही वास्तव में 'निशा हैं..

-छत्तीसगढ़ में तैनात आईएएस अधिकारी प्रियंका शुक्ला ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी..

लखनऊरायपुर, छत्तीसगढ़ रायपुर में लड़की के नाम से फेसबुक अकाउंट बनाकर टिप्पणी करना एक युवक को भारी पड़ गया। पुलिस ने रवि नाम के इस युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। युवक पर आरोप है कि वो लड़कियों के नाम से फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर सांप्रदायिक टिप्पणी करता था। पुलिस ने युवक को पकड़ने के बाद उससे 'निशा जिंदल' नाम की फेसबुक आईडी पर उसकी असली तस्वीर भी पोस्ट कराई।

-आईएएस अधिकारी प्रियंका शुक्ला ने किया ट्वीट..

छत्तीसगढ़ में तैनात आईएएस अधिकारी प्रियंका शुक्ला ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा- 'साम्प्रदायिक वैमनस्यता भड़काने के आरोप में जब रायपुर पुलिस एफबी यूजर 'निशा जिंदल' को गिरफ़्तार करने पहुंची तो पता चला कि 11 साल से इंजिनियरिंग पास नहीं कर पा रहे 'रवि' ही वास्तव में 'निशा 'हैं। 'निशा' के 10,000 फॉलोअर्स को सच बताने पुलिस ने रवि से ही उनकी सच्चाई पोस्ट कराई।

-फेसबुक की निशा जिंदल असल में रवि निकला..

सांप्रदायिक टिप्पणी की शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने 'निशा जिंदल' के नाम से बनी फेसबुक आईडी की छानबीन की। छानबीन के आधार पर पुलिस जब शुक्रवार को गिरफ्तारी के लिए पहुंची तो 'निशा जिंदल' की जगह पर रवि मिला। पूछताछ में रवि ने कुबूल किया कि वही इस अकाउंट को चलाता है। इसके बाद पुलिस ने युवक से 'निशा जिंदल' के अकाउंट पर उसकी असली फोटो पोस्ट कराई।

-लड़कियों की आईडी से करता था सांप्रदायिक टिप्पणी..

गिरफ्तार युवक रवि पर आरोप है कि वो लड़कियों के नाम से फेसबुक अकाउंट बनाता था और फिर उससे सांप्रदायिक टिप्पणी करता था। इसके बाद कुछ लोगों ने इस आईडी की शिकायत दर्ज कराई जिसके बाद पुलिस की साइबर सेल ने रवि को गिरफ्तार किया। आरोपी युवक के खिलाफ आईटी ऐक्ट और अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है।

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी