ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
पालतू पशुओं को छुट्टा छोड़ने पर जुर्माना एवं कार्रवाई
February 13, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

पालतू पशुओं को छुट्टा छोड़ने पर जुर्माना एवं कार्रवाई

आज दिनांक 13 फरवरी 2020 को उप जिलाधिकारी ऊंचाहार श्री केशव नाथ गुप्ता के द्वारा प्रभारी पशु चिकित्सा अधिकारी  ऊंचाहार जगतपुर रोहनिया खंड विकास अधिकारी एडीओ पंचायत अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत ऊंचाहार एवं तहसील के अधिकारियों के साथ आवारा एवं छुट्टा पशुओं तथा गौशालाओं के प्रगति की समीक्षा बैठक की गई ।बैठक में अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत ऊंचाहार के द्वारा बताया गया कि कान्हा गौशाला के लिए भूमि एवं धनराशि का आवंटन हो गया है रुपया एक करोड़ 65 लाख में से 82 लाख रूपय प्रथम किस्त प्राप्त हो गई है। टेंडर की प्रक्रिया लगभग पूर्ण हो गई है। जल्दी पट्टी रहस कैथल में कान्हा गौशाला का निर्माण प्रारंभ कर दिया जाएगा ।इसमें पांच सौ आवारा पशुओं को रखने की व्यवस्था की गई है ।विकासखंड जगतपुर के सुदामापुर में वर्तमान में 200 पशुओं के रखने की व्यवस्था है जिसमें से इस समय 100 पशु रखे गए हैं। जिला पंचायत के द्वारा शीघ्र ही दो अतिरिक्त सेट का निर्माण पूर्ण करने पर इसमें 200 आवारा एवं छुट्टा पशु रखे जाएंगे। परसीपुर विकासखंड रोहनिया में 50 पशु रखे गए हैं ।सभी पशुओं को चारा पानी और छाया की समुचित व्यवस्था है ।किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं है। धूता विकासखंड जगतपुर में निर्माणाधीन अस्थाई अस्थाई गौशाला का निर्माण अंतिम चरण में है ।शीघ्र ही शेड डालकर इसमें भी पशुओं को रखा जाएगा । उपजिलाधिकारी अधिकारी के द्वारा शासन की नीति से अवगत कराते हुए बताया गया कि एक पशुपालक को अधिकतम चार पशु गौशाला से ले जाकर रखने का प्रावधान है। पशुपालकों को प्रत्येक गोवंश पर रुपए 30 प्रतिदिन की दर से चारा आदि के लिए उन्हें दिया जाएगा इस प्रकार एक किसान 4 जानवरों को पाल कर ₹3600 धनराशि प्रति।माहअर्जित कर सकता है। किंतु पशु चिकित्सा अधिकारी के द्वारा इस कार्य में रुचि न लेने के कारण प्रगति बहुत खराब पाएगी ।उप जिला अधिकारी के द्वारा सभी पशु चिकित्सा अधिकारियों खंड विकास अधिकारियों एवं तहसील कर्मचारियों को निर्देशित किया गया कि शासन की इस नीति का व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए और लोगों को प्रेरित किया जाए कि आवारा पशुओं को पालकर लाभ अर्जित करें ।उप जिलाधिकारी ऊंचाहार के द्वारा पशु चिकित्सा अधिकारी अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत एवं खंड अधिकारी को यह भी निर्देश दिया गया कि यदि किसी पशुपालक द्वारा अपना निजी पशु दूध दुहने या काम लेने के बाद उन्हें सड़कों पर या खेतों में चरने के लिए छोड़ दिया जाएगा तो नियमानुसार उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी और उनसे जुर्माना की वसूली भी की जाएगी ।पशुओं के मृत्यु के स्थिति में उनके अंतिम संस्कार के निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी स्थिति में गोवंश का शव सड़क या खेत में या सार्वजनिक स्थान पर खुला हुआ नहीं मिलना चाहिए और ना ही उसे हिंसक जानवर या पशु पक्षी शव को क्षत-विक्षत करने पाए । उपजिला अधिकारी के द्वारा यह भी बताया गया कि जो लोग पशुओं को वह जानबूझकर के प्राइमरी स्कूल पंचायत घर अथवा साधन सहकारी समिति के भवनों या विद्यालय के भवनों में ले जाकर बांध देते हैं उनके विरुद्ध भी नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी और क्षति की उनसे वसूली भी की जाएगी ।उपजिला अधिकारी के द्वारा अधिकारियों को पशुओं के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण एवं उनके टीकाकरण और औषधि देने की भी निर्देश दिए गए।

Report@Deepak kumar