ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
राजधानी लखनऊ में तीन हजार कुंतल आटा बाजारों में पहुंचाया गया, जिससे गली-मोहल्लों में भी आटा की कमी होगी पूरी
March 29, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

राजधानी लखनऊ में तीन हजार कुंतल आटा बाजारों में पहुंचाया गया, जिससे गली-मोहल्लों में भी आटा की कमी होगी पूरी

शहर की पांच आटा मिले एक हफ्ते के अन्दर लगभग दस हजार टन आटा तैयार करेंगी
  
लखनऊ, 29 मार्च 2020, आटा की कमी को पूरा करने के लिए शहर की पांच मिलों से शहर में लगभग तीन हजार कुंतल आटा पहुंचाया गया। इन मिलों से पहुंचाया गया आटा फुटकर बाजार में 30 रुपये प्रतिकिलो के भाव तक ही बेचा जा सकेगा। इसके साथ ही शहर की चिह्नित की गई लगभग 20 बड़ी आटा चक्कियों को भी सोमवार से गेहूं 25.50 रुपये के भाव में दिया जाएगा। जिससे गली-मोहल्लों में भी आटा की कमी को दूर किया जा सके। 

दस हजार टन आटा तैयार करेंगी मिलें..लॉकडाउन के बाद प्रशासन की पहल पर शहर की पांच आटा मिले एक हफ्ते के अन्दर लगभग दस हजार टन आटा तैयार करेंगी। मंडी समिति के सचिव संजय सिंह ने बताया कि सोमवार को पीसीएफ से इन मिलों को दस हजार टन गेहूं 2550 रुपये कुंतल के दाम से उपलब्ध कराया जाएगा। जिससे शहर में आटा की कमी को पूरा किया जा सके। उन्होंने बताया कि रविवार को ही इन मिलों ने अपने स्टॉक से लगभग तीन हजार कुंतल आटा शहर के थोक कारोबारियों को उपलब्ध कराया है। 

आज से आटा चक्कियों को भी मिलेगा गेहूं..
गली-मोहल्लों में आसानी से आटा सही दाम पर मिल सके इसकी भी तैयारी पूरी कर ली गई है। मंडी सचिव ने बताया कि शहर के चारों कोनों में 20 बड़ी आटा चक्कियों को चिह्नित किया जा चुका है। जिन्हें सोमवार को भी 2550 रुपये कुंतल के दाम पर गेहूं उपलब्ध कराया जाएगा। इनमें प्रमुख रूप से चिनहट की जगन्नाथ आटा चक्की, रिंग रोड और पारा की आटा चक्की शामिल हैं। 

थोक कारोबारी खुद खरीद सकेंगे मिलों से आटा..दाल-चावल मिलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष भारत भूषण गुप्ता ने बताया कि प्रशासन की सहमति से शहर की पांच आटा मिलें जिनमें अमौसी स्थित यूपी रोलर फ्लोर मिल, अयोध्या फ्लोर मिल और श्रीराम एग्रो फ्लोर मिल जो अमौसी में स्थित हैं। इसके साथ ही मोहनलालगंज स्थित जेएनपी फ्लोर मिल और बीकेटी स्थित केजर फूड प्रोडक्ट फ्लोर मिलें शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इन मिलों से थोक कारोबारी या उनके ब्रोकर यहां से आटा खरीद कर सकते हैं। बस इसमें शर्त केवल एक है कि ग्राहक को प्रशासन द्वारा तय दाम 30 रुपये में ही उपलब्ध कराना होगा। 
फुटकर बाजार में आटा अभी भी पहुंच से दूर
आशियाना, आलमबाग, अलीगंज, गोमतीनगर, ठाकुरगंज, चौक, चौपटिया, खदरा में आटा की कमी बनी हुई है। जिसका कालाबाजारी पूरा फायदा उठाते हुए 35-40 रुपये में बेच रहे हैं। वहीं फतेहगंज बाजार के कारोबारी मुकेश अग्रवाल ने बताया कि थोक बाजार से 2900 रुपये कुंतल के हिसाब से आटा बिका है। ऐसे में यह आटा 32 रुपये तक के दाम में बिकना तय है। 
 डालीगंज की बाजार में आटा की कीमत 30-32 रुपये के बीच चल रही है। रविवार को आटा मिलों से कम दाम में आटा मिलना शुरू हुआ है। ऐसे में उम्मीद है कि शहर भर की फुटकर बाजार में आटा की कीमत घटेगी। 
अमीनाबाद की बाजार में आटा अभी भी 23-33 रुपये में बिक रहा है। प्रशासन को मिलों का आटा फुटकर बाजारों तक पहुंचाने की व्यवस्था करनी होगी तभी कालाबाजारी और दामों पर अंकुश लग पाएगा।
आशियाना में किराना की लगभग 15-20 बड़ी दुकानें हैं जहां आटा की उपलब्धता न के बराबर है। यहां जो आटा बिक भी रहा है उसका दाम 30 से 40 रुपये तक है। एसडीएम ने आश्वासन दिया है कि रविवार की शाम तक आटा उपलब्ध करा दिया जाएगा।
एक हफ्ते के भीतर लगभग दस हजार टन आटा तैयार कर लिया जाएगा। रविवार को भी पांच मिलों से लगभग तीन हजार कुंतल से ज्यादा आटा बाजार में पहुंचाया गया। थोक या फुटकर व्यापारी सीधे आटा मिलों से भी आटा ले सकते हैं।

रिपोोर्ट @ आफाक अहमद मंंसूरी