ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
सातवीं आर्थिक गणना के कार्यों की एक समीक्षा बैठक का आयोजन
February 4, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

सातवीं आर्थिक गणना के कार्यों की एक समीक्षा बैठक का आयोजन

 


आज दिनांक 4-फरवरी 2020 को मुख्य विकास अधिकारी महोदय की अध्यक्षता में जनपद में संचालित कॉमन सर्विस केंद्र संचालको द्वारा की जा रही सातवीं आर्थिक गणना के कार्यों की एक समीक्षा बैठक का आयोजन विकास भवन सभागार में किया गया।  

सातवीं आर्थिक गणना सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा 2019 में कराई जा रही है। वर्तमान आर्थिक गणना में मंत्रालय ने सातवीं आर्थिक गणना के लिए कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सीएससी ई- गवर्नैंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के साथ साझेदारी की है। 7वीं आर्थिक गणना में आंकड़े जुटाने, उनके प्रमाणीकरण, रिपोर्ट तैयार करने और इनके प्रसार के लिए आईटी आधारित डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर मोबाईल App के माध्यम से किया जा रहा है। जनपद में सातवीं आर्थिक गणना का कार्य आरम्भ हो चुका है। इस बार यह कार्य कॉमन सर्विस केन्द्रों के माध्यम से एक विशेष मोबाईल App के माध्यम से किया जा रहा है। 

आर्थिक गणना में परिवारों के उद्यमों, गैर-जोत कृषि और गैर-कृषि क्षेत्र में वस्तुओं/सेवाओं (स्वयं के उपभोग के अलावा) के उत्पादन एवं वितरण की गणना की जाएगी।

इस कार्य को संपन्न करने के लिए  कुल 200 सुपरवाइजरों व 2200 गणनाकारों की मदद ली जा रही है।  जिनका पूर्व में जिला स्तरीय  प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित कर सफल सातवीं आर्थिक गणना का कार्य करने हेतु प्रशिक्षित किया जा चूका है।  

जनपद में सातवीं आर्थिक गणना के सफल क्रियान्वयन के लिए मुख्य विकास अधिकारी महोदय की अध्यक्षता में एक कमिटी का गठन किया गया है। जिला अर्थ एवं सांख्यिकी अधिकारी *चित्रा दुबे* को इस परियोजना का नोडल बनाया गया है। जिनकी देख रेख में यह कार्य किया जा रहा है।  

कार्यदायी संस्था सीएससी ई- गवर्नैंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के राज्य स्तरीय प्रतिनिधि विनय मिश्रा द्वारा आर्थिक गणना के कार्य की बारीकियों को बताते हुए कहा गया कि इसी  गणना के आकड़ों के आधार पर ही सरकरों द्वारा जनोपयोगी योजनाओं को तैयार किया जाता है। यह गणना प्रत्येक पांच वर्षों में किया जाना है।  पिछली गणना 2013 में किया गया है।  अतः त्रुटि रहित सर्वे का होना अति आवश्यक है।  जिसके लिए तय मानकों के आधार पर ही सर्वे कार्य किया जाय।

सीएससी राज्य प्रतिनिधि द्वारा बताया गया कि जनपद में सीएससी द्वारा जिले में तीन जिला प्रबंधकों की नियुक्ति की गयी है जिनके द्वारा जनपद के सर्वे कार्यों की फील्ड स्तरीय गुणवत्ता को बनाये रखने हेतु लगातार समीक्षा / प्रशिक्षण का कार्य किया जा रहा है।  
अब तक कुल 40 ग्राम पंचायतों का सर्वे कार्य संपन्न किया जा चूका है। इस बैठक मै जिला प्रवंधक  राजीव कुमार, अभिषेक दिवेदी, जिला समंयवक संदीप श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट@असद खान