ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
शोहदे से परेशान नाबालिग छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या की।
February 7, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

शोहदे से परेशान नाबालिग छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या की।

LUCKNOW : गोमतीनगर में 6वीं क्लास की छात्रा ने शोहदे से तंग आ फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. छात्रा को पड़ोसी स्कूल वैन ड्राइवर अक्सर परेशान करता था. छात्रा ने इसकी शिकायत मां व बड़ी बहन से भी की थी. छात्रा की मां ने आरोपी के खिलाफ गोमती नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई है.
किराए के मकान में रहती थी
गोमतीनगर में चंचल (काल्पनिक नाम) (13) अपनी मां व तीन भाई बहन के साथ किराए के मकान में रहती थी।

तीन साल पहले वह रायबरेली से परिवार के साथ लखनऊ आई थी. उसके पिता व भाई रायबरेली में रहते हैं जबकि मां गोमतीनगर स्थित एक फेमस स्कूल में आया का काम करती है. घर की माली हालत ठीक न होने के चलते 12वीं क्लास में पढ़ने वाली बड़ी बहन भी गोमतीनगर में एक कंपनी में जॉब करती है और प्राइवेट फॉर्म भरकर पढ़ाई कर रही है. चंचल गोमतीनगर में एक स्कूल में 6वीं क्लास की छात्रा थी.
छोटे भाई व बहन के साथ अकेली थी
मां रोजाना की तरह गुरुवार को स्कूल चली गई जबकि बड़ी बहन ऑफिस चली गई. घर में चंचल के अलावा एक छोटा भाई और तीन साल की छोटी बहन मौजूद थी. चंचल और उसका भाई छोटी बहन की देख रेख के लिए घर पर ही रुके थे. सुबह 10 बजे के बाद वह कमरे में चंचल व छोटी बहन को छोड़ मकान मालिक की छत पर खेलने चला गया. दोपहर करीब 12 बजे पड़ोस में रहने वाली महिला घर पहुंची तो चंचल को फांसी के फंदे पर लटकते देखा. महिला ने इसकी जानकारी छोटे भाई को दी.
पैदल स्कूल पहुंच दी सूचना
चंचल को फंदे से लटकता देख छोटा भाई आधा किमी दूर स्थित मां के स्कूल पैदल दौड़ता हुआ पहुंचा और घटना की जानकारी दी. मां स्कूल से भागती हुई घर पहुंची और उसे नीचे उतार इलाज के लिए लोहिया लेकर पहुंची, जहां डॉक्टरों ने चंचल को मृत घोषित कर दिया.
ड्राइवर पर छेड़छाड़ का आरोप
चंचल की मां ने बेटी के आत्महत्या का आरोप मोहल्ले के स्कूल वैन ड्राइवर दुर्गेश पर लगाया. उन्होंने बताया कि स्कूल ड्राइवर दुर्गेश चंचल को अक्सर परेशान करता था. स्कूल आते-जाते अक्सर उसका रास्ता रोक लेता था. चंचल का छोटा भाई भी उसके साथ स्कूल में पढ़ता है. उसने भी बताया कि स्कूल आते जाते समय अक्सर दुर्गेश बहन को रोकता था. उसके स्कूल के बाहर गाड़ी लगाकर खड़ा रहता था. चंचल ने इसकी शिकायत अपनी बड़ी बहन व मां से की थी. दोनों ने पिता के साथ में न रहने और बदनामी का हवाला देकर चुप करा दिया था.
मां ने दी तहरीर
इंस्पेक्टर गोमतीनगर अमित दुबे ने बताया कि छात्रा की मां ने देर शाम आरोपी स्कूल वैन ड्राइवर के खिलाफ तहरीर दी है, जिसके आधार पर आरोपी के खिलाफ पॉक्सो एक्ट के साथ-साथ छेड़छाड़ व आत्महत्या के लिए प्रेरित करने की गंभीर धारा के तहत केस दर्ज कर उसकी गिरफ्तारी की जाएगी. पिता के देर से पहुंचने की वजह से अब तक छात्रा का न तो पीएम हुआ और न ही केस दर्ज हो सका.
बाक्स-
तीमारदारों के भी निकल पड़े आंसू
अपनी होनहार चंचल बेटी की सलामती के लिए मां घंटों लोहिया हॉस्पिटल के इमरजेंसी के बाहर खड़ी रही. उसकी जुबान पर बस एक ही रट थी कि मेरी बेटी कोमल ठीक है न.. आने जाने वाले लोगों से, तीमारदार व डॉक्टरों से हाथ जोड़ कर बेटी को बचाने की गुहार लगाती रही. चंचल के भाई बहन मां को किसी तरह संभाल रहे थे. एक मां की पीड़ा देख वहां हर किसी के आंसू निकल पड़े।

रिपोर्ट@त्रिलोकी नाथ