ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
सोनिया गांधी के प्रतिनिधि से सपा MLA मनोज पांडेय की दिखी करीबी, चर्चाएं तेज।
January 21, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

सोनिया गांधी के प्रतिनिधि से सपा MLA मनोज पांडेय की दिखी करीबी, चर्चाएं तेज।

रायबरेली. यूपी में कांग्रेस के ध्वस्त किले को फिर से खड़ा करने के लिए पार्टी ने रणनीति बनाकर एक्शन शुरू कर दिया है. हाल ही में सीएए (CAA) और एनआरसी (NRC) विरोध में पुलिस की लाठियों का शिकार हुए पीड़ितों का आंसू पोंछने जहां पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी स्वयं गईं, वहीं पार्टी ने ब्राह्मणों को भी अपनी तरफ करने की कोशिशें तेज कर दी हैं. दरअसल रविवार को रायबरेली में मनोज पांडेय की ओर से आयोजित खिचड़ी भोज कार्यक्रम में सोनिया गांधी के प्रतिनिधि केएल शर्मा का शामिल होना इस बात का संकेत दे गया. सूत्रों के अनुसार मनोज पांडेय के जरिए से कांग्रेस पार्टी 2022 के लिए गोट बिछाकर बीजेपी से दो-दो हाथ करने के मूड में है।
सोनिया के प्रतिनिधि ने साझा किया मनोज पांडेय के साथ मंच
रविवार को रायबरेली शहर के अस्पताल चौराहा स्थित रिफॉर्म क्लब में पूर्व मंत्री एवं मौजूदा समय में ऊंचाहार से सपा विधायक मनोज पांडेय की ओर से खिचड़ी भोज का विशाल आयोजन किया गया था. भोज से पहले एक राजनैतिक मंच भी सजा, जिस पर अपनों के साथ बेगाने (यानी सपा के अलावा दूसरी पार्टी के नेता) भी मौजूद थे. ख़ास बात ये कि इस मंच पर सोनिया गांधी के प्रतिनिधि एवं गांधी परिवार के अत्यंत करीबियों में शुमार केएल शर्मा भी मौजूद थे. उनकी मौजूदगी में सपा विधायक ने कांग्रेस की शान में क़सीदे पढ़ डाले.
विधायक बोले- कांग्रेस से मेरा 23-24 साल पुराना संबंध है
विधायक ने मंच से कहा कि कांग्रेस से मेरा 23-24 साल पुराना सम्बंध है. हमारे भाई (राकेश पांडेय) ने इसी से शुरुआत की थी. हमारे सुख-दुःख में हमेशा खड़ी रही. सपा विधायक के ये बोल सुनकर वहां मौजूद लोगों से लेकर सोशल मीडिया कयास बाजी का दौर शुरू हो गया कि क्या कांग्रेस पार्टी अपने बागी वर्तमान में बीजेपी नेता एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह की भरपाई करने के लिए अब मनोज पांडेय की पार्टी में इंट्री करने वाली है. ये चर्चा इसलिए भी लाजमी है कि मकर संक्रांति के पर्व को बीते पूरे 5 दिन बाद खिचड़ी भोज का आयोजन हुआ. वो भी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के रायबरेली दौरे से ठीक दो दिन पहले.
लोकसभा चुनाव 2019 से कम हो रही है दूरियां
वैसे ये पहला मौका नहीं था, हाल ही में सम्पन्न हुए लोकसभा चुनाव में जब कांग्रेस वेंटिलेटर पर थी, पार्टी के लिए अमेठी और रायबरेली सीट बचाना प्रतिष्ठा का सवाल था, उस वक़्त सपा खेवनहार बनी थी. अमेठी में तो सपा का साथ भी कांग्रेस को नहीं बचा सका, लेकिन सपा का साथ रायबरेली में कारगर हुआ. इसमें सपा से बड़ा योगदान ऊंचाहार विधायक मनोज पांडेय का था. खुद मनोज पांडेय ने सोनिया गांधी के समर्थन में विशाल रैली का आयोजन किया था, जिसमें प्रियंका गांधी के साथ वो मंच पर मौजूद थे. उस समय प्रियंका गांधी ने उनकी जमकर सराहना भी की थी

त्रिलोकी नाथ
 अमावां रायबरेली