ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
विकास के नाम पर हुआ सिर्फ भ्रष्टाचार
January 6, 2020 • Tariq • उत्तरप्रदेश

 

विकास के नाम पर हुआ सिर्फ भ्रष्टाचार

महराजगंज (रायबरेली) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन की धज्जियां उड़ाने से बाज नहीं आ रहे ग्राम प्रधान व जिम्मेदार अधिकारी गांव की जमीनी हकीकत आज भी बद से बदतर है। बताते चलें क्षेत्र के पूरे दलजीत सिंह मजरे पहरेमऊ विकासखंड अमावां, एक ओर शासन द्वारा गांव में नाली खड़ंजा निर्माण के लिए लाखों रुपए स्वीकृत किए जाते हैं लेकिन विकास के लिए आया सारा पैसा  प्रधान व ब्लॉक के अधिकारी हजम कर जाते हैं कागजों पर नालियां बन जाती हैं खड़ंजा भी लग जाता है। पूरे दलजीत सिंह का यह आलम है एक तरफ खड़ंजा की मरम्मत होती है कुछ ही दिनो बाद खड़ंजा की हालत जर्जर होने लगती है। और लाखों रुपए चट कर लिए जाते हैं ऐसे में आखिर गांव का विकास होगा या सत्यानाश इसकी एक तस्वीर विकासखंड अमावां के दलजीत सिह पुरवा की है। ग्राम प्रधान द्वारा नालियों का निर्माण ना कराए जाने के कारण खड़ंजे के ऊपर से बहता गंदा पानी और जगह-जगह गंदगी का ढेर लगा हुआ है। गांव में इस तरह से फैली गंदगी से कभी भी बढ़ सकता है संक्रामक बीमारियों का खतरा गांव विकास से कोसों दूर है। वहीं
 ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम प्रधान के 5 वर्ष बीतने को हैं लेकिन गांव में विकास के नाम पर अब तक कुछ नहीं किया गया है जो भी होता है भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाता है हाल ही में लगा खड़ंजा एक उदाहरण है एक तरफ लगकर खत्म हो चुका दूसरी तरफ लगाने की तैयारी है खड़ंजा लगाने के नाम पर सिर्फ सरकार का धन बर्बाद किया जा रहा है भ्रष्टाचार के चलते एक तरफ खड़ंजा लगता है कुछ ही दिन बाद खड़ंजा की ऐसी हालत हो जाती है जिस पर चलना बहुत मुश्किल हो गया है। 
उक्त ग्राम पंचायत के विकास कार्यों की जांच जिला स्तर के अधिकारियों से करवाई जाए तो गांव के विकास की जमीनी हकीकत सामने आ जाएगी भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचार करने वाले भी लपेटे में आ सकते हैं। 
ग्राम प्रधान पति अशोक कुमार मुंशी का कहना है गांव की लाइट जल्द रिपेयरिंग करवाई जाएगी जो कई महीनों से बंद पड़ी है नहीं  जल रही है, हैंडपंप की चौकी भी जल्द ही बनवाया जाएगा जो कई वर्षो से टूटी हुई है उसमे गंदा पानी भरा रहता है, खड़ंजा भी कुछ दिनों के बाद ही लगेगा प्रधान पति के गोल गोल बयान साफ जाहिर कर रहे हैं।

मनीष श्रीवास्तव रायबरेली सवांददाता