ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों का अब केवल ई-चालान, 15 जून से मैनुअल चालान पूरी तरह से बंद
June 5, 2020 • टीम जनाधिकार • उत्तरप्रदेश

-सभी जिलों को और जीआरपी को इसके लिए पर्याप्त धनराशि उपलब्ध करवा दी गई, इसलिए तय हुआ है कि 15 जून से एक भी मैनुअल चालान नहीं काटा जाएगा–

-प्रदेश के 10 जिलों में योजना का सफल संचालन किए जाने के बाद यातायात निदेशालय ने ये फैसला किया–

लखनऊ, 05 जून 2020, उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में 15 जून से ट्रैफिक, सिविल पुलिस और जीआरपी यातायात के नियम तोड़ने पर अब सिर्फ ई-चालान ही करेगी। मैनुअल चालान पूरी तरह से बंद कर दिए जाएंगे। आईजी ट्रैफिक दीपक रतन के मुताबिक वर्तमान में प्रदेश भर में करीब 20% चालान मैनुअल काटे जा रहे हैं क्योंकि कई जिलों में अभी तक ई-चालान को भेजे जाने के लिए डाक राशि उपलब्ध नहीं थी। अब सभी जिलों को और जीआरपी को इसके लिए पर्याप्त धनराशि उपलब्ध करवा दी गई है इसलिए तय हुआ है कि 15 जून से एक भी मैनुअल चालान नहीं काटा जाएगा। जनवरी 2019 में प्रदेश में ई-चालान की व्यवस्था 10 जिलों में पायलट प्रॉजेक्ट के रूप में शुरू की गई थी। बाद में इसे सभी जिलों में शुरू कर दिया गया। जीआरपी भी ई-चालान ही कर रही थी।

यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों का अब केवल ई-चालान..

यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों का अब केवल ई-चालान किया जाएगा। आगामी 15 जून से ये व्यवस्था उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में लागू कर दी जाएगी। इसी के साथ मैनुअल चालान की व्यवस्था पूरी तरह बंद कर दी जाएगी। प्रदेश के 10 जिलों में योजना का सफल संचालन किए जाने के बाद यातायात निदेशालय ने ये फैसला किया। आईजी ट्रैफिक दीपक रतन ने बताया कि जनवरी 2019 में पायलट प्रोजेक्ट के तहत प्रथम चरण में प्रदेश के 10 प्रमुख जिलों में ई-चालान किए जाने की कार्रवाई शुरू की गई थी। 

10 जिलों में योजना का सफल संचालन किए जाने के बाद यातायात निदेशालय का फैसला..

इसके तहत जिस वाहन का ई-चालान किया जाता है उस वाहन के स्वामी के मोबाइल पर तत्काल स्वसंचालित एसएमएस के जरिए सूचना दी जाती है। इन सभी 10 जिलों में योजना के सफल संचालन के बाद प्रदेश के सभी जिलों में नागरिक पुलिस, यातायात पुलिस एवं राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) द्वारा ई-चालान की कार्रवाई शुरू की गई। वाहन स्वामी को नके चालान की सूचना दिए जाने के लिए डाकखर्च की धनराशि उपलब्ध न होने के कारण कुछ जिलों में 20 प्रतिशत मैनुअल/पेपर चालान किया जा रहा था। मार्च 2020 में डाकखर्च के लिए सभी जिलों को धनराशि उपलब्ध कराए जाने के बाद 15 जून से मैनुअल चालान पूरी तरह बंद करने का फैसला किया गया। अब नागरिक पुलिस, यातायात पुलिस व जीआरपी द्वारा केवल ई-चालान किया जाएगा। 

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी