ALL उत्तरप्रदेश विदेश राष्ट्रीय शिक्षा खेल धर्म-अध्यात्म मनोरंजन संपादकीय epaper
यूपी के औरैया में 2 ट्रकों की भिड़ंत में 24 मजदूरों की मौत, दुर्घटना में मारे गए 24 लोगों की पूरी लिस्ट
May 16, 2020 • Team janadhikar • उत्तरप्रदेश

-औरेया में प्रवासी मजदूर एक हादसे का शिकार हो गए, पिछले कुछ दिनों में कई मजदूर इन्हीं हादसों के शिकार हो चुके हैं..

-भीषण सड़क हादसे में 24 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई, दुर्घटना में मारे गए सभी लोगों की शिनाख्त हो गई..

-मजदूर सड़क और रेल के रास्ते ही अपने घर लौट रहे हैं, इस बीच कई हादसों में मजदूर दुर्घटना का शिकार हुए हैं..

लखनऊ– उत्तर प्रदेश-औरेया, 16 मई 2020, औरेया में प्रवासी मजदूर एक हादसे का शिकार हो गए, जानकारी के मुताबिक इस हादसे में 24 मजदूरों की मौत हो गई, ट्रक में सवार होकर ये मजदूर हरियाणा और राजस्थान से अपने गांवों की तरफ पलायन कर रहे थे, ज्यादातर मजदूर पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार के बताए जा रहे हैं, कई मजदूर गंभीर रुप से घायल हो गए हैं, शनिवार की सुबह भीषण सड़क हादसे में 24 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई, दुर्घटना में मारे गए सभी लोगों की शिनाख्त हो गई है। दरअसल लॉकडाउन के लंबा खींच जाने से देश के अलग-अलग- राज्यों में कल-कारखाने और रोजी-रोटी कमाने के साधन बंद होने से अप्रवासी कामगारों के सामने अनिश्चितता की स्थिति पैदा हो गई है, मजदूर सड़क और रेल के रास्ते ही अपने घर लौट रहे हैं, इस बीच कई हादसों में मजदूर मारे भी गए हैं। उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारियों ने बताया कि दो ट्रकों में भिड़ंत की वजह से ये दर्दनाक हादसा हुआ, फरीदाबाद दिल्ली से आने वाले सैकड़ों मजदूर इसी रास्ते से होकर अपने-अपने घरों को जा रहे थे, जानकारी के मुताबिक सुबह करीब 3.30 बजे दो ट्रकों में आपस में भिड़ंत हो गई जिसमें करीब 50 मजदूर ट्राला पलटने से हताहत हुए, घायलों को औरैया जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जबकि 15 अन्य लोगों की हालत नाजुक होने के कारण सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी रिफर कर दिया गयाज बताया जा रहा है कि नेशनल हाईवे पर एक ढाबे के पास खड़ी डीसीएम में टकराने से ट्राला अनियंत्रित हो गया, इस ट्राले में आंटे की बोरी लदी हुई थी और श्रमिक इन बोरियों के ऊपर बैठे हुए थे, हादसे में ज्यादातर श्रमिक इन बोरियों में दब गए जब तक उन्हें निकाला गया इनमें से कई ने दम तोड़ दिया था।

-पिछले कुछ दिनों में कई मजदूर इन्हीं हादसों के शिकार हो चुके हैं..

कुछ श्रामिकों ने जिला अस्पताल पहुंचते पहुंचते ही दम तोड़ दिया, जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया है कि राजस्थान के नंबर वाले ट्राले पर सवार ज्यादातर लोग झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल और कुछ यूपी के रहने वाले थे, कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के बाद बड़े पैमाने पर प्रवासी मजदूर अपने घरों की तरफ लौट रहे हैं, ट्रेन और बसों की व्यवस्था बंद होने के कारण ये प्रवासी हाइवे पर पैदल, साइकिल, रिक्शा या फिर ट्रकों की मदद से अपने गांवों तक पहुंच रहे हैं लेकिन इससे होने वाले हादसों में बढ़ोतरी हो गई है, पिछले कुछ दिनों में कई प्रवासी मजदूर इन्हीं हादसों के शिकार हो चुके हैं। हादसे के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनों को 2 लाख और हादसे में घायल हुए लोगों को 50 हजार रुपए मुआवजा देने की घोषणा की है, साथ ही सीएम ने इस हादसे के लिए जिम्मेदार मानते हुए दो थानाध्यक्षों को भी तत्काल सस्पेंड कर दिया है।

औरैया हादसे के मृतकों की सूची..

1- राहुल राहुल पुत्र पुत्र विभूति निवासी गोपालपुर थाना पिंडा जोरा, झारखंड, 2- आधार कार्ड नंद किशोर नंद, 3- कनी लाल निवासी पिंडा जोरा, झारखंड, 4- केदारी यादव पुत्र मुन्ना यादव निवासी बाराचट्टी बिहार, 5- अर्जुन चैहान, 6- राजा गोस्वामी, 7- मिलन निवासी पश्श्चिम बंगाल, 8- गोवर्धन पुत्र गौरंगो.
09- अजीत पुत्र अमित निवासी ऊपर बन्नी पुरुलिया पश्चिम बंगाल, 10- चंदन राजभर, 11- नकुल महतो, 12- सत्येंद्र, निवासी बिहार, 13- गणेश, निवासी पुरुलिया, पश्चिम बंगाल, 14- तीन अज्ञात, 17- उत्तम, 18- सुधीर, निवासी गणढ़ गोपालपुर, 19- कीर्ति खिलाड़ी, 20- डॉक्टर महंती, 21 अज्ञात, 22- मुकेश, 23- अज्ञात, 24- सोमनाथ।

बसपा नेता मायावती ने की ये मांग..

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आईजी कानपुर मोहित अग्रवाल को दुर्घटना के कारणों पर तत्काल एक रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है. कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) मोहित अग्रवाल ने औरैया हादसे का मौके पर जाकर निरीक्षण किया.बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा है कि, मैं शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करती हूं. मैं मुख्यमंत्री से उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग करती हूं, जिन्होंने अपनी जिम्मेदारियों को पूरा नहीं किया. उन्होंने मांग की है कि इस दुर्घटना में मारे गए या घायल हुए लोगों के परिवारों को वित्तीय सहायता मिलनी चाहिए।

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी